Tujh mein hai aandhi, tujh mein hai Gandhi

ओह! ये तो सपना था! टूट गया? क्या फर्क पड़ता है, देख लेते हैं! शायद इतना अच्छा लगे की हम इसे सच कर बैठे!

Leave a Reply

Pages

Blogroll

Recent Comments